Dosti-Help: bhajan

Thursday, 4 October 2018

bhajan


                                                          दों हा
                           मंगलचन्द जयदेवा माली भजन बनाकर गावह \
                         गांव मंडावा मान बस माली मनव की छाप लगावह \\
   
                   *       *         *       *          *          *           *             *        *
                        सुरसत मात शारदा सुमरु ,गजानन्द को ध्यावह /
                         गिरधाननद गुरू क सरण सुब को शीश  नवा व  ह   //
                  *       *           *       *          *           *           *           *          *
    जयदेव जी क भजना की शोक लगी सन १९४५ सो मैंने खूब भजन सीखा और गाया /
    हर जगह जठे भी सतसंग होतो बठे ही चल्यो जातो /रात भर भजना माही रहतो /मेरे  पिताजी बहुत खुश रहते और माताजी दूध गर्म करके पिलाती और कहती बेटा रोजाना मत जाया कर ,मेरे इतनी शोक हो गयी सो श्री कालूराम जी पुरोहित जी को अपना गुरु बनाया और उनकी कृपा से गाता रहा /फिर १९७६ में भजन बनाने की शोक लग गयी तो खूब भजन लिखे बाद में १९८७ में श्री गिरधानन्द स्वामी जी को गुरु बनाया लक्ष्मणगढ़ में उनका स्थान ह /अब गुरुओ की क़ृपा से चल रहा हु //

                                                     भजन १
 टैर     ------भाईडो गजानंद न धयालो र बीती जाय बहार
   १ -गणपति हो तुम सुख के देवा नित उठ करू तुम्हारी सेवा //
       मोदक लाडू चड़ाउ तेरे मेवा , मेरा करदो बेडा पार //
        गजा .... .........
   २ -निराकार से शक्ति चाली ब्रह्मा के घर बाजी टाली /
       ब्रह्मा ;बोल्या सुन मतवाली  शंकर के इकतार  //
       गजा .......
.
   ३ -शंकर से या शक्ति बोली भोलेनाथ पलक झट खोली  /
        फूल बराबर पृथ्वी तोली रच दिया संसार //
         गजा. ........
    ४ -पार्वती है भोली भाली  कर विनती मनवो माली /
         अब तो सुनले विनती महारी  एक पुरुष की नार //
          गजा........

दोहा : गजानंद और शारदा तो सुमरु गुरु महाराज /
           भरी सभा के मायन,तो रखियो मेरी लाज //
दोहा :  संत द्वार श्याम जी तो भगत द्वार राम /
            हनुमत कारज सारसी तो पूरण होसी काम //

No comments:

Post a Comment